Aneb Sivam (அன்பே சிவம்) – जिंदगी में रास्ते बनाती हुयी जिंदगी

  जिंदगी में कई बार ऐसे पल आते हैं जहाँ हम समझते कुछ और हैं और सच्चाई कुछ और ही होती है।  यह सब कुछ इसलिए होता है क्योकि किसी भी इंसान और हालात का पहला प्रभाव हम पर कुछ और सोचने के लिए मज़बूर कर देता है, जो कि असलियत से परे होता है।

    ऐसा ही कुछ एक फिल्म में दिखाया गया है, यह एक तमिल फिल्म है – ” Aneb Sivam “ जिसका इंग्लिश में अर्थ  Love Is God  हैं। यह एक कॉमेडी, ड्रामा फिल्म है, जिसको Sunder C ने तमिल और तेलुगु दोनों भाषाओँ में निर्देशित किया है।  2003 में रिलीज़ हुयी यह साऊथ सिनेमा की सुपर हिट फिल्म रही है। 

Story –  फिल्म की कहानी शुरू होती है, दो लोगों से। एक अनबरसु, जोकि एक कमर्शियल डायरेक्टर है और दूसरा नल्लासिवम, जो एक समाज सेवक है। दोनों ही हवाई यात्रा कर रहे हैं भुवनेश्वर से चेन्नई की। तभी भारी वर्षा होने के कारण  सभी उड़ाने रद्द हो जाती है। अनबरसु  जिसके पास नल्लासिवम बैठा हुआ है उसको ऐसा लगता है कि वह एक आतंकवादी है और इसकी सूचना वह हवाई अड्डे के अधिकारियों को भी देता है,यह साबित होने पर कि नल्लासिवम आतंकवादी नहीं है,अनबरसु शक करना नहीं छोड़ता।

 शहर में बहुत बारिश होने की वजह से वह दोनों एक ही होटल का रूम शेयर करते हैं। दोनों मन ही मन यह सोचते हैं कि चेन्नई कैसे पहुंचा जाए क्योंकि उन दोनों का चेन्नई जाना बहुत जरूरी है। अनबरसु की खुद की शादी है और नल्लासिवम को हर हाल में कुछ चेकों का वितरण करना है। सोचते सोचते दोनों की रात सुबह में बदल जाती है।

 सुबह होते ही दोनों कोरोमंडल एक्सप्रेस ट्रेन को पकड़ने के लिए बस में चढ़ जाते हैं। मगर कुछ देर बादअनबरसु को पता चलता है कि उसका सामान चोरी हो गया है। यह सब देख कर नल्ला उसकी मदद करने की कोशिश करता है मगर वह मना कर देता है। फिर भी नल्ला चोर को पकड़ कर उसका सामान लाकर उसको देता है।

बार-बारअनबरसु नल्ला से दूरी बनाने की कोशिश करता है और नल्ला हर बार उसे  हर एक परेशानी से बाहर निकालता है। इसी तरह दोनों इच्छापुरम रेलवे स्टेशन पर पहुंच जाते हैं और  ट्रेन का इंतजार करते हैं। नल्ला अनबरसु  को अपनी कहानी सुनाता है, कि कुछ साल पहले एक स्वस्थ नल्ला किस तरह से मल्टीनैशनल कॉरपोरेशन द्वारा संचालित औद्योगिकरण के विरोध में कई तरह के स्ट्रीट थिएटर किया करता था।
 
  कोई भी व्यवसायी नल्ला को पसंद नहीं करता था, और एक व्यवसायी पडायचेती तो उससे बहुत ही ज्यादा नफरत करता था क्योंकि नल्ला ने व्यंगात्मक रूप से कई शोज़ में पडायचेती की नकल की है और नल्ला उसी की बेटी बाला से बेहद प्रेम करता है। पिता  के डर से दोनों केरल भागने के बारे में सोचते हैं और नल्ला जब केरल जाने वाली बस में बैठता है तो उस बस का एक्सीडेंट हो जाता है।
बाला उसका इंतज़ार ही करती रह जाती है, मगर वह नहीं आता और उसके पिता उसको यह बताते हैं कि नल्ला की मौत हो चुकी है। जब नल्ला ठीक हो जाता है तो वह पडायचेती से बात करता है तो वह नल्ला को बाला की शादी होने और विदेश में बसने की कहानी सुनाता है। उसके बाद नल्ला पूरी तरह से सामाजिक कार्यों में लग गया।
 
दोनों चेन्नई पहुँच जाते हैं। अनबरसु नल्ला को अपनी शादी के लिए आमंत्रित करता है, नल्ला शादी में पहुँचता है और दुल्हन देखकर उसको पडायचेती के झूठ का पता चलता है। पडायचेती नल्ला को बिना कुछ बताये चुपचाप से चले जाने आग्रह करता है। नल्ला दुखी मन से चला जाता है। फिल्म का अंत इस सोच के साथ हो जाता है कि किस तरह जिंदगी आपके इम्तिहान लेती है , कुछ उस इम्तिहान में पास हो जाते हैं और कुछ फेल।

Songs & Cast इस फिल्म में 7 गाने हैं जिन्हे  कमल हासन, कार्तिक , उदित नारायण, बालसुब्रमणियम और चंद्रन ने गाये हैं  – “Anbe Sivam அன்பே சிவம்” , “Elo Machi  எலோ மச்சி”, ” Mouname Paarvayai ம oun னேம் பார்வாயாய்” , “Naatukkoru Seithi நாட்டுக்கோரு சீதி”

    फिल्म में कमल हासन, माधवन और किरन राठौड़ आदि अन्य ने अपनी अदाकारी का बेहद अद्भुद प्रदर्शन दिया है।

Location –  इस फिल्म में भुवनेश्वर से चेन्नई का सफर दिखाया गया है तो कुछ शूटिंग इस फिल्म की इन दोनों शहरों में हुयी है पर ज्यादातर इस फिल्म को Pollachi Junction railway station पर फिल्माया गया है। 
Spread the love
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published.