Movienurture :- Meena Kumari

Pakeezah – मासूम मोहब्बत की कहानी।

भारतीय सिनेमा ने पूरी दुनिया में अपना एक अलग ही रुतबा कायम किया हुआ है। हर दशक में कलाकारों ने अपनी अदाकारी से एक नया आयाम प्रस्तुत किया है। 
हम समीक्षा करेंगे एक ऐसी ही अद्भुत फिल्म कीजिसने हिंदी सिनेमा को एक नयी सोच दी…… पाकीज़ा,  कभी ना कभी इस फिल्म का नाम सभी ने सुना होगा । यह फिल्म 1972 में रिलीज़ हुयी और फिल्म में मीना कुमारीराजकुमारअशोक कुमार और अन्य कलाकारों ने अपनी अदाकारी से कहानी को जीवंत किया। इसकी  अदाकारा  मीना कुमारी ने बड़ी ही सहजता और मासूमियत के साथ अपने किरदार को निभाया।
Movienurture :- Meena Kumari
 
पाकीज़ा एक उर्दू शब्द है – जिसका अर्थ होता है स्वच्छपवित्र। इसकी कहानी ने हमें यह बताया कि एक तवायफ़ का जीवन बहुत ही जिल्लत भरा होता है। उसको दुनिया एक  वस्तु की तरह  समझती है और ये भूल जाती है कि वो भी एक इंसान है। जब खुदा ने हमें बनाने में कोई फर्क नहीं किया तो इंसान की क्या बिसात है। हमारी क्षीण सोच एक स्त्री को सिर्फ अपने मनोरंजन का साधन मात्रा समझ बैठती है। हम ये भी भूल जाते हैं कि इंसान की पहचान उसके व्यव्हार से होती है। 
कहानी शुरू होती हैलखनऊ शहर की  एक तवायफ नरगिस के कोठे के साथजो एक मशहूर परिवार के बेटे शहाबुद्दीन से मोहब्बत करती हैं मगर शहाबुद्दीन के परिवार को ये  मोहब्बत मंज़ूर नहीं थी। इस दर्द  के साथ नरगिस एक बच्ची को जन्म देकर  इस दुनिया से रुख़सत हो  जाती है।  उस बच्ची की परवरिश  नरगिस की बहन ने उसी तवायफ की दुनिया में  की।  वह छोटी सी बच्ची  नृत्य और गायकी के साथ  बड़ी  होती रही,  बेहद खूबसूरत होने के साथ – साथ वह बहुत अच्छी नृतकी भी बनी और उसकी पहचान दुनिया में साहिबजान से होने लगी । पर हमेशा उसके मन में एक ही ख्याल हमेशा आता था कि उसका जीवन एक कटी पतंग और  सोने के पिंजरे में कैद एक पंछी की तरह हैजिसको खुशियां सोचने की भी आज़ादी नहीं है। उसके जीवन में जितने भी लोग आये वो उसको सिर्फ एक वस्तु समझते रहे और उसके उस ख्याल को और  मजबूती देते रहे।  कहा जाता है कि वक्त एक जैसा नहीं रहताबदलता है। ऐसा ही कुछ साहिबजान के साथ भी हुआ जब उसकी मुलाकात हुयी  सलीम अहमद  खान के खत सेजिसमे लिखा था  कि आपके पैर बहुत खूबसूरत है इनको जमीन पर मत रखना।  बस इतनी सी बात साहिबजान के दिल को छू जाती है और उसको मोहब्बत का अहसास होना शुरू हो जाता है।
Movienurture :- Meena kumari
دل سا ساتھی جب پايا
بے چينی بھی ساتھ ملی
 
दिलसा साथी जब पाया
 
बेचैनी भी साथ मिली
दिन बीतते जाते हैं और साहिबजान की मोहब्बत परवान चढ़ती जाती हैफिर एक दिन उसकी मुलाकात अपनी मोहब्बत से हो ही जाती हैजितनी उम्मीद उसको होती है  – उतनी ही प्यारी उसकी मोहब्बत  है।  पहली ही मुलाकात में साहिबजान सलीम की मोहब्बत में पूरी तरह से डूब जाती है। सलीम से उसको इंसान होने का अहसास मिलाजो उसको एक नयी जिंदगी की तरफ ले जा रहा था मगर सलीम के परिवार को साहिबजान से उसका मिलना रास नहीं आ रहा था।  इसके बाद सलीम साहिबजान के साथ उस शहर से बहुत दूर चले जाते हैंमगर साहिबजान की मशहूरियत  ने पीछा नहीं छोड़ा।  वह जहाँ जातेबदनामी साथ जाती इन सब को देखते हुए सलीम ने साहिबजान को पाकीज़ा का एक नया नाम दिया और उनके  सामने  शादी का प्रस्ताव रखाजिसको बड़ी ही मासूमियत के साथ साहिबजान ने मना कर दिया  क्योकि  वो अपनी मोहब्बत को यूं ज़िल्लत भरी जिंदगी नहीं देना चाहती थी और उनको अहसास  हो गया कि उनकी पाक मोहब्बत इस समाज की क्षीण सोच के नीचे कहीं दब जाएगी।साहिबजान चुपचाप से  फिर से पुरानी  जिंदगी में आ जाती हैं और सलीम  किसी और से शादी करने का फैसला लेकर वापस घर आ गए।
Movienurture :- Meena Kumari
 
सलीम अपनी शादी में नृत्य का प्रस्ताव साहिबजान के भेजते हैं जिसको वो बड़ी ही सहजता से स्वीकार कर लेती हैं। 
इस फिल्म के डायरेक्टरप्रोड्यूसर और राइटर कमाल अमरोहीसिनेमा जगत के परफेक्शनिस्टउन्होंने इस फिल्म के जरिये सभी का ध्यान उस जगह केंद्रित किया जिसके बारे में उस ज़माने  में तो क्या हम इस ज़माने  में भी नहीं सोचना चाहते। कमाल अमरोही ने  बहुत ही नजदीकी से हर पहलू को दिखाया है।  किस तरह से एक तवायफ पूरा जीवन विरक्ति ( उदासीनता ) के साथ  जीती है।  मौसम भी बदलते हैं मगर इनका जीवन कभी  भी नहीं बदलता।  इस फिल्म को बनने में  14  सालों का वक्त लगा।
एक तवायफ (नरगिस) होने के बाद भी उसके जीवन में कुछ सपने अपनी बच्ची को लेकर होते हैं उस पल वो सिर्फ  एक माँ होती है  और दूसरी तवायफ ( साहिबजान )जिसको सिर्फ एक इंसान होने के वो सारे हक़ चाहिए जिसकी इंसान होने के नाते वो हकदार हैं।  उसकी आंखों में भी कुछ सपने पल रहे होते हैं और वो सपने जब हकीकत से रुबरु होते हैं तो वो खुले आसमान में उड़ना चाहती है मगर वो ये भी जानती है कि बदनामी  उसको वापस  उसी दलदल में डाल देगी।
تم کيا کروگے سن کر مجھ سے ميری کہانی
بے لطف زندگی کے قصے ہيں پھیکے پھیکے
“तुम क्या करोगे सुन कर मुझ से मेरी कहानी
बे लुत्फ़ ज़िन्दगी के क़िस्से हैं फीके फीके” 
क्या हम कुछ पल उनको समझ सकते हैंउनके उस दर्द को महसूस कर सकते हैं? …….. शायद नहींपर हम उनको इंसान होने का सम्मान जरूर दे सकते हैं।
Spread the love
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published.